• img
    एक्‍वेरियम, भोपाल

    भोपाल में स्थित एक्‍वेरियम राज भवन और पुराने विधान सभा के पास स्थित है। इसे आम जनता के देखने के लिए 1977 में खोला गया और यहां मछलियों की कई प्रकार की किस्‍में भी देखने को मिलती हैं। इस जगह बच्‍चों को साथ लेकर जरूर जाना चाहिए। एक्‍वेरियम दो मंजिला इमारत में बना हुआ है - ऊपरी मंजिल में 40 ग्‍लास एक्‍वेरियम है जहां कई घरेलू मछलियां जैसे - गोल्‍डन शार्क, रोजी बार्ब, गोल्‍डन प्‍लाटा, गोल्‍डन गोरमी, पैराडाइज ब्‍लू, किंग कोबरा, किंग जेब्रा, ब्‍...Read More

  • img
    चौक बाजार, भोपाल

    चौक बाजार, भोपाल में उन लोगों के लिए खास मार्केट है जो वहां अपनी पत्‍नी या गर्लफ्रैंड के साथ सैर पर गए है। यह बाजार, भोपाल के पुराने शहर में स्थित है और यहां किसी भी चीज को मोलभाव करके सस्‍ते दामों पर खरीदा जाता है। इस जगह का पुराना आकर्षण आज भी बरकरार है, वर्तमान में भी चौक बाजार के क्षेत्र में पुरानी मस्जिदें और हवेली देखने को मिल जाती है जहां पहले महफिलें सजा करती थी और नर्तकी नृत्‍य पेश किया करती थी। चौक से बड़ी आसानी से फेरी वाल...Read More

  • img
    शौकत महल और सदर मंजिल, भोपाल

    शौकत महल, एक बेहतरीन स्‍थापत्‍य शैली के कारण भोपाल शहर का एक महत्‍वपूर्ण ऐतिहासिक मील का पत्‍थर है। इस महल की बेहतरीन स्‍थापत्‍य शैली एक समामेलन का दावा करती है जिसे बनाने में भारतीय और यूरोपियन वास्‍तुकला का इस्‍तेमाल किया गया था, इसे एक फ्रांसीसी द्वारा बनाया गया था। अलग संयोजन के कारण, यह इमारत आसपास के क्षेत्रों में सभी इमारतों से बिल्‍कुल अलग है। शौकत मंजिल, शौकत महल के परिसर में ही स्थित है - इस महल के परिसर में एक विशाल ह...Read More

  • img
    लोअर लेक या छोटा तालाब, भोपाल

    लोअर लेक, भोपाल में अपर लेक या बड़ा तालाब के पास में ही स्थित है और यहां बने हुए सुंदर कमला पार्क के काफी नजदीक स्थित है। इस झील का दृश्‍य सुंदर और रौबदार है। पर्यटक यहां आकर पैडल और मोटरबोट को चला सकते है। साहसी पर्यटक, झील के पानी में पानी आधारित गतिविधियों का मजा उठा सकते है। लोअर झील भी पर्यटकों के बीच उतनी ही विख्‍यात है जितनी अपर लेक। लोअर लेक और अपर लेक जैसी दो सुंदर झीलों के कारण ही भोपाल को झीलों का शहर कहा जाता है। हालांकि, व&#...Read More

  • img
    ताज - उल - मस्जिद, भोपाल

    भोपाल में ताज - उल - मस्जिद शहर में मुस्लिमों के लिए महत्‍वपूर्ण स्‍थान है और एक प्रमुख लैंडमार्क भी है। यह मस्जिद पूरे देश की सबसे सुंदर मस्जिदों में से एक है और बड़ी भी है। इस मस्जिद की संरचना बेहद खूबसूरत और भव्‍य है। इस मस्जिद के नाम का शाब्दिक अर्थ होता है - मस्जिदों का ताज और यह ठीक भी है। यह मस्जिद गुलाबी रंग से रंगी हुई है और इसकी गुम्‍बदे सफेद रंग की है। भोपाल में ताज - उल - मस्जिद शहर में मुस्लिमों के लिए महत्‍वपूर्ण स्‍थान है औ...Read More

  • img
    जामा मस्जिद, भोपाल

    जामा मस्जिद, भोपाल की भव्‍य मस्जिद है और इसका निर्माण कुदेशिया बेगम के जमाने में किया गया था। जिन्‍होने बाद में इस मसिजद की देखभाल की थी। यह स्‍थल छोटा है लेकिन प्रभावशाली निर्माण के कारण लोगों के आकर्षण का केंद्र है। इस मस्जिद में धर्म की परवाह किए बगैर कई लोग दौरा करते है क्‍योंकि इसकी अद्भुत संरचना उन्‍हे आकर्षित करती है। इस मस्जिद के दो मुख्‍य फीचर्स बड़े टॉवर है जिन्‍हे शहर में काफी दूर से भी देखा जा सकता है। यह मस्जिद, इस...Read More

  • img
    गौहर महल, भोपाल

    गौर महल, बड़ा तालाब के किनारे पर स्थित है और इसे भोपाल शहर में एक भव्‍य महल माना जाता है। इस महल का निर्माण गौहर बेगम के द्वारा करवाया गया था, जो शहर की पहली महिला शासक थी। महल को 1820 में उनके संरक्षण के तहत बनवाया गया था और इसके निर्माण के बाद इसे वास्‍तुकला का सर्वोच्‍च उदाहरण माना जाता है।यह इमारत, हिंदू और मुगल स्‍थापत्‍य कला का मिश्रण है। यह काफी दयनीय है कि अब इसका रखरखाव महल की तरह नहीं हो पा रहा है। बेकार रखरखाव के कारण इसकी भव्‍...Read More

  • img
    अपर लेक या बड़ा तालाब, भोपाल

    भोपाल में स्थित बड़ा तालाब या अपर लेक, देश की सबसे पुरानी मानव - निर्मित झील है। यह झील 11 वीं सदी की है और इसे स्‍थानीय स्‍तर पर बड़ा तालाब के नाम से पुकारा जाता है। यह झील, कोलन्‍स नदी पर बने एक विशाल बांध के पास में ही स्थित है और इसे भारत की सबसे सुंदर झीलों में से एक माना जाता है।एक स्‍थानीय किंवदंती के अनुसार, राजा भोज ने इस झील के निर्माण का आदेश दिया था और माना जाता है कि इस झील के पानी से ही राजा की त्‍वचा रोग संबधी समस्‍या दूर हो गई थ...Read More